What is URL in Hindi । क्या होता URL है ?

By | May 18, 2020

What is URL in Hindi, URL क्या है Uniform Resource Locator ये शब्‍द आपने कही न कही या फिर कभी ना कभी तो सुना होगा कि क्या होता URL है, या यूआरएल खोलें तो आखिर यूआरएल का क्‍या मतलब होता है URL परिभाषा और अर्थ क्‍या होता है साथ ही यूआरएल की फुल फॉर्म क्‍या होती है।

यदि आप इंटरनेट का उपयोग करते हैं अगर बात करे तो आप यूआरएल को हम हर रोज इस्तेमाल करते हैं लेकिन यूआरएल के बारे में ज्यादा जानकारी नही  होने के कारण हमें जो असली मैकेनिज्म है इसके पीछे का वह समझ में नहीं आता है तो इस पोस्ट में जानने वाले है कि यूआरएल क्या होता क्या है और यह किस तरह से कम करता है, यह कितना महत्वपूर्ण होता है एक वेब पेज के लिए, आइए जानते है की यूआरएल क्या होता है – What is URL in Hindi

क्या होता URL है – What is URL in Hindi

क्या होता URL है - What is URL in Hindi

क्या होता URL है (What is URL in Hindi)

URL का फुल फॉर्म यानि URL यूआरएल का पूरा नाम (Uniform Resource Locator) होता है। और इस URL का इस्तेमाल इंटरनेट पर स्थित किसी भी सिंगल वेब पेज को खोजने के लिए किया जाता है या फिर उसको एक नाम देने के लिए किया जाता है या अगर सीधी भाषा मे कहे तो किसी वेब पेज का सिंगल एड्रैस होता है यूआरएल की मदद से उस पेज तक आसानी से पहुचा जा सकता है, जो एक यूजर चाहता है।

अगर कहे तो यह एक आपके घर के पते की तरह ही होता है जहां पर उसमें आपकी घर का पूरा एड्रेस होता है पिन कोड के साथ, और उसको किसी व्यक्ति को देने पर वहां पर आसानी से पहुंच जाता है ठीक उसी तरह से यूआरएल भी अगर किसी यूजर (कम्प्युटर चलाने वाला) को दिया जाए तो उसयूआरएल की मदद से वह सीधे ही उस बेवपेज पर पहुंच जाता है ।

इंटरनेट के जनक टिम बर्नर्स ली का योगदान

Tim Berners-Lee ने यह वही टिम बर्नर्स ली हैं जिन्होने पूरी दुनिया को इंटरनेट के माध्‍यम से एक दूसरे को जोड़ा है। टिम बर्नर्स ली ने सन 1991 में पहला वेब ब्राउज़र बनाया था, जिसका नाम उन्‍होंने वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) रखा था।

आजकल आप इंटरनेट चलते समय किसी का नाम टाइप करते हो तो आप पहले WWW लगाते हैं यह वही वर्ल्ड वाइड वेब की शार्टफार्म है उन्‍होनें ही यूआरएल (URL ) को दिया जिससे सभी बेवपेज को आसानी से सर्च किया जा सके अगर ये नहीं होता तो गूगल भी कभी इस तरह से काम नहीं कर पाता क्‍यों वह भी यूआरएल (URL ) को ही खोजता है ।

यूआरएल (URL ) कैसे काम करता है

शुरूआत में वेब एड्रैस न होकर आईपी (IP) एड्रेस होते थे, आईपी एड्रेस (IP address) का पूरा नाम इंटरनेट प्रोटोकॉल एड्रेस (Internet Protocol Address) होता है। आज के समय में आईपी एड्रेस के बिना कम्प्युटर को इंटरनेट या किसी भी नेटवर्क से जोडा नहीं जा सकता है।

अब आप यह तो पूरी तरह से समझ ही गए होंगे कि हर वैबसाइट का एक आईपी एड्रैस होता है जिससे उसे इंटरनेट पर पहचाना या जाना जा सके, यह बिलकुल आपके शहर के पिन कोड जैसा होता है ।

आईपी एड्रेस किसे कहते हैं?

यही समस्‍या थी किसी वेबसाइट के आईपी एड्रेस को याद रखने में उदाहरण के लिये आप Google.in Web Address ज्‍यादा आसानी से याद रख सकते हैं लेकिन अगर आपसे कहा जाये कि आप Google.in के आईपी एड्रेस (IP address) को याद रखें यानि 172.217.9.164 तो शायद बहुत कम लोग ऐसे होगें जो Google.in की जगह पर 172.217.9.164 को याद रखना पसंद करेगें

इंटरनेट प्रोटोकॉल किसे कहते है?

यहां पर आपको सबसे पहले https दिख रहा है असल में https एक इंटरनेट प्रोटोकॉल होता है, हर वेबसाइट URL के लिये इंटरनेट पर कुछ नियम बनाये जाते हैं और इन नियमों को इंटरनेट प्रोटोकॉल कहते हैं और URL इन नियमों को फॉलो करता है यह दो प्रकार से होता हैं – पहला http और दूसरा https है। http की फुल फॉर्म Hypertext Transfer Protocol होती है

जबकि https की फुल फॉर्म Hypertext Transfer Protocol secure होती है अगर किसी साइट पर “https” और ताले के समान के साथ एक हरे रंग की पट्टी दिखाई देती है। इसका मतलब यह होता है कि यह वेब साइट SSL मानक को पूरा करती है और सही तरह से सुरक्षित होती है।

इसके बाद यहां आपको दिखाई देगा www इसकी फुल फॉर्म है World Wide Web यह इस यूआरएल का subdomain होता है।

डोमेन नेम का क्या मतलब होता है

इसके बाद जो barikisesamjhe.com  है यह एक डोमेन नेम है, इसके भी दो हिस्‍से होते हैं पहला नाम यानि barikisesamjhe.com और दूसरा .com यानि Extension इन दोनों से मिलकर एक डोमन नेम बनाता है। यह वेबसाइट के लिये यूनिक होता है यदि आपने किसी नाम से कोई डोमेन नेम रजिस्‍टर करवाया है तो उस नाम से कोई दूसरा डोमेन नेम रजिस्‍टर नहीं कराया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *