Junagarh Fort History In Hindi जूनागढ़ फोर्ट हिस्ट्री इन हिंदी

By | June 2, 2020

जूनागढ़ किले Junagarh Fort की कहानी । जिस पर बाबर के पुत्र कामरान मिर्जा के अलावा किसी भी शासक का अधिकार नहीं हो पाया।

जूनागढ़ फोर्ट हिस्ट्री इन हिंदी । History Of Junagarh Fort In Hindi

जूनागढ़ का किला कहां पर स्थित है ( Junagarh Kila Kahan Hai )

जूनागढ़ फोर्ट हिस्ट्री इन हिंदी Junagarh Fort History In Hindi राजस्थान के इतिहास मे बीकानेर का किला जिसे जूनागढ़ किले के नाम भी जाना जाता है । यह किला राजस्थान राज्य मे बीकानेर जिले मे बसा हुआ है।

junagarh fort bikaner  बीकानेर के इस जूनागढ़ के किले की खूबसूरत और शानदार संरचना है पहले इस किले को बीकानेर किले के नाम से जाना जाता था और इस किले के चारों और बीकानेर शहर बसा हुआ है किले को प्रारम्भ मे चिंतामणि किले और बीकानेर किले – Bikaner Fort के  नाम से जाना जाता है 20 वी शताब्दी के प्रारंभ में इसका नाम बदलकर जूनागढ़ रखा गया था।

जूनागढ़ किले का निर्माण किसने किया ( Junagarh Kila Kisne Banaya )

Junagarh Fort Bikaner Rajasthan राजस्थान के इतिहास मे अनेक किलो का निर्माण हुआ जो पूरी दुनिया मे एक अलग ही छाप छौड़ते है जैसे  राव जोधा ने जोधपुर का किला बनवाया और रावल जैसल ने जैसलमेर का दुर्ग बनवाया था वैसे ही राव बिका ने बीकानेर की स्थापना की लेकिन  जूनागढ़ का किला नहीं बनवाया ।

राव बिका ने जूनागढ़ किले की  निव रखी थी। जूनागढ़ का किला बीकानेर के 5 वे महाराज राय सिंह द्वारा सन 1589 को बनाया गया।

निर्माण के समय राय सिंग मुगल दरबार मे एक सेनापति भी थे और राय सिंह ने मेवाड़ के खिलाफ मुगलों का साथ दिया जिससे खुश होकर मुग़ल सल्तनत ने उनको गुजरात की कुछ छोटी रियासतों की जागीरदारी दे दी और इन रियासतों के आने वाले धन से जूनागढ़ किले का निर्माण करवाया।

बीकानेर मे स्थित जूनागढ़ फोर्ट को बनाने में 1584 से 1589 तक 5 साल लगे। जूनागढ़ फोर्ट के निर्माण के समय केवल दो महल थे बाद मे अलग अलग राजाओं ने अपने समय मे अलग अलग महल बनवाए।

जूनागढ़ के किले मंदिर और सुन्दर महल – Temples Of Junagarh Fort Bikaner In Hindi

राजस्थान के इतिहास मे Junagarh Fort जूनागढ़ किले के मुख्य द्वार पर चित्तौड़गढ़ की तरह सती हुई रानिया के हाथों की छाप नजर आती है उस समय राजा के मरने के बाद रानी को सती होना पड़ता था।

करण महल – Karan Mahal

करण महल का निर्माण करण सिंह ने 1680 मे करवाया था करण महल का निर्माण औरंगजेब से जीत की याद में बनवाया था। इसके निर्माण मे लाल बलुआ पत्थर और संगमरमर का भी प्रयोग हुआ है

फूल महल- Phool Mahal

फूल महल जूनागढ़ के महलो मे से सबसे पुनरा महल है इस फूल महल का निर्माण राजा राय सिंह द्वारा करवाया गया था।

अनूप महल – Anup Mahal

अनूप महल का निर्माण एक जैसलमेर के निवासी ने किया था  अनूप महल जूनागढ़ किले का सबसे भव्य  महल है जिसकी छत लकड़ी से बनी हुई है।

चंद्र महल – Chandra Mahal

जूनागढ़ किले के चन्द्र महल जो कि सभी महलो मे सबसे शानदार महल है यह रानियों का शयनकक्ष होता था ।

गंगा महल – Ganga Mahal

गंगा महल को 20 वीं शताब्दी में राजा गंगा सिंह ने बनवाया था। यह अब एक संग्रहालय बन चुका है। महाराजा गंगा सिंह बीकानेर के सबसे लोकप्रीय शाशक थे।

जूनागढ़ किले के द्वार – Junagarh Fort Gates

जूनागढ़ के किले मे सात द्वार बने हुये है इन सात द्वारो मे दो द्वार मुख्य है पहला करण धुर्व जो की मुख्य द्वार है दूसरा सूरज पोल जो वर्तमान द्वार है कहा जाता है की इस द्वार पर सूरज की रोशनी पड़ती है तो इसका दृश्य बहुत ही सुन्दर होता है।

जूनागढ़ किले पर आक्रमण

जूनागढ़ के किले पर वैसे तो कई बार आक्रमण हुये है लेकिन एक शासक को छोड़कर बाकी सभी शासक जूनागढ़ किले को हासिल करने मे विफल रहे।

जूनागढ़ के इस किले पर बाबर के पुत्र कामरान मिर्जा 1534 में राव जैत सिंह के शासन के दौरान सिर्फ एक दिन के लिए कब्ज़ा कर पाया था।

इसके बाद अपने छठे शासक राजा राय सिंह के शासन काल में बीकानेर शहर का विकास हुआ। जिन्होंने 1571-1611 तक यहां शासन किया था।

जूनागढ़ किले की विशेषताएं

जूनागढ़ किले को राती घाटी का किला भी कहते हैं क्योंकि यह किला राती घाटी नामक चट्टान पर बना हुआ है।

यह दुर्ग ‘धान्वन दुर्ग’ व भूमि दुर्ग की श्रेणी में आता है।

यह दुर्ग चतुष्कोणीय या चतुर्भुजाकृति में बना हुआ है।

 इस दुर्ग का निर्माण हिंदू और मुस्लिम शैली के समन्वय से हुआ है।

जूनागढ़ फोर्ट का मौलिक नाम चिंतामणि है। जूनागढ़ का शाब्दिक अर्थ है पुराना किला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *