Jaigarh Kila History In Hindi – जयगढ़ किले के बारे में जानकारी

By | June 6, 2020

जयगढ़ के किले का इतिहास – Jaigarh Fort Jaipur History In Hindi

Jaigarh Kila History In Hindi – जयगढ़ किले के बारे में जानकारी

Jaigarh Kila History In Hindi जयगढ़ फोर्ट गुलाबी नगर जयपुर मे बसा हुआ एक प्रसिद्ध एतिहासिक दुर्ग है। जयगढ़ फोर्ट को सवाई जयसिंह द्वितीय ने सन 1726 मे छील का टीला नामक पहाड़ पर बसाया था। इस फोर्ट को आमेर की सुरक्षा की दृष्टि से बनाया गया था। इस महल के चारो और जंगल है। यह फोर्ट पहाड़ के शीर्ष पर बसा हुआ है इसकी ऊंचाई लगभग 300 से 400 फिट मानी जाती है।

इस फोर्ट के अन्दर से आमेर महल मे एक गुप्त रास्ता भी बना हुआ है। जयगढ़ फोर्ट Jaigarh Fort की डिजाइन विध्यधार नामक एक वास्तुकार के द्वारा बनवाई गई थी। इसकी बनावट इतनी सुन्दर है की एक बार जो इस फोर्ट को देख ले वो इसकी सुंदरता को भूल नहीं सकता है। जयगढ़ फोर्ट की लम्बाई 3 किलोमीटर एवं चौड़ाई 1 किलोमीटर है।

जयगढ़ फोर्ट मे स्थित है एशिया की सबसे बड़ी तोप

एशिया की सबसे बड़ी तोप  Jaigarh Fort जयगढ़ फोर्ट  मे है। जिसे जयबाण के नाम से भी जाना जाता है। यह तोप बहुत वजनी है। इस तोप का वजन लगभग 40-50 टन माना जाता है।

Jaigarh Kila History In Hindi – जयगढ़ किले के बारे में जानकारी

इस तोप से निकला बारूद का गोला 40 किलोमीटर दूर तक जा सकता है। इस तोप की लम्बाई 31 फिट की है। और इसमे 8 मीटर लम्बे बैरल रखने की सुविधा भी है।

जब इस तोप का परीक्षण किया गया था तब जयपुर से 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित चाकसू गाँव मे बारूद का गोला गिरा था जिसके कारण से उस जगह एक बड़ा गड्डा बन गया था जिसने बाद मे एक तालाब का रूप ले लिया था। इसी कारण से इसे एशिया मे सबसे महत्वपूर्ण तोप का दर्जा दिया गया है।

जयगढ़ किला Jaigarh Kila मे दो प्रवेश द्वार है, जिनको डूंगर दरवाजा एवं अवानी दरवाजा के नाम से जाना जाता है। ये दोनों दरवाजे पूर्व और दक्षिण दिशा मे बने हुये है। किले की दीवारों की लम्बाई 3 किलोमीटर की है।

 जयगढ़ किले के खजाने का रहस्य

जयगढ़ किले का खजाना आज भी एक उनसुलझी पहेली है। कई इतिहासकारो का मानना है कि जयगढ़ किले मे बहुत खजाना छुपा हुआ था। कई लोगो का यह भी मानना था कि जयसिंह ने उस खजाने से ही गुलाबी नगर जयपुर को बसाया था।

आज भी कई लोग ये मानते है कि किले के अन्दर बहुत खजाना छुपा हुआ है। सन 1970 के समय मे राजस्थान सरकार के द्वारा इस जगह कि खुदाई करवाई गई थी।

इन्दिरा गांधी ने खुदाई का कार्य सेना को दे दिया था उस जगह से जो कुछ भी मिला उसे सरकार दिल्ली ले गई।

लेकिन ये बात स्पष्ट रूप से नहीं कही जा सकती है कि खजाना मिला या नहीं, अगर कुछ मिला तो वो थे ढेर सारे सवाल जिनके जवाब लोग आज भी ढूंढ रहे है।   

Jaigarh Kila के अन्दर एक गोलाकार आकार का उधान और पानी को एकत्रित करने के लिए तालाब बने हुये हे। किले के अन्दर कई प्रकार के पेड़ भी लगाए गए है।

जयगढ़ फोर्ट मे लक्ष्मी विलास भवन

जयगढ़ किला Jaigarh Kila मे लक्ष्मी विलास नामक भवन भी है। जो Jaigarh Kila का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, इसमे एक बहुत बड़ा हॉल है जिसमे 12 संगमरमर के खम्भे लगे हुये है।

लक्ष्मी विलास भवन का कई बार जीर्णोद्धार भी करवाया गया है। इसकी दीवारों पर कई प्रकार के भित्ति चित्रों का चित्रण भी है जो बहुत ही सुन्दर है।

संग्रहालय और मंदिर

किले के अन्दर एक संग्रहालय भी बना हुआ है संग्रहालय मे शासको के चित्र, शाही चित्रण, पहनावे, सिक्को आदि के चित्र एवं मूर्तिया बनी हुई है।

शासको की तलवारे, उनकी लड़ने के शस्त्र आदि भी रखे हुए है। यहा पर 2 महत्वपूर्ण मंदिरो की स्थापना की गई है जिनमे राम हरी मंदिर (10वी शताब्दी) और काल भैरव मंदिर (12वी शताब्दी) है। इनके अलावा ललित मंदिर, अराम मंदिर भी स्थित है।

2 thoughts on “Jaigarh Kila History In Hindi – जयगढ़ किले के बारे में जानकारी

  1. Rajnish

    i am searching for this type of essay from very long time.keep sharing such informative details with us .great keep it up.
    for govtjob visit our blog–www.dreampost.in

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *